आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

Warning: Illegal string offset 'ID' in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 17

Notice: Uninitialized string offset: 0 in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 17

Warning: Illegal string offset 'ID' in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 20

Notice: Uninitialized string offset: 0 in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 20
आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

आज हमने फिर से एक कमाल का करिश्मा देखा

ख़ुश्क, प्यासी, तपती धरती के सीने मे,

अचानक पता नहीं कहाँ से कुछ बादलों ने

ढ़ेर सारा बारिश का पानी उढ़ेल दिया

टिप टिप पड़ती बूंदों ने जैसे धरती को फिर से जवाँ कर दिया

उसकी झुरिआं कुछ ही पलों में खो सी गईं

उसकी खुशबू चंद ही मिनटों में बदल सी गयी

फिर हवा चली, पेड़ भी झूमे, मस्त झूमे

पत्तियों ने भी पक्षियों के साथ मिलकर खूब संगीत बनाया

मानो सारी फिज़ा में एक रुमानी सी छा गयी हो

दिल मे आया की कैसे बांध लूँ इन पलों को अपने तकिये से

और सो जायूँ उसपे सर रख कर

या पी लूँ इन बारिश की बूंदों को, और हमेशां के लिए अपना बना लूँ

फ़िर एक बिजली कौंधी, बादल गड़गड़ाये

और दिल खोल के बरसे

जैसे अपना सब कुछ लुटा रहे हों

जैसे पूरी धरती में बाँट रहें हों अपने को

जैसे सब की रुमानियत में ही उनकी रुहानियत भी छिपी हो

वाह! एक बड़ा गहरा राज़ खोल गए ये बादल आज

सिखा गए, की बांटने से ही तुम्हारी रुहानियत भी खिलेगी

यूँ तो सब अकेले, प्यासे भटक ही रहे हैं

तुम अपने हृदय के बादलों से

बस सब पर प्रेम की वर्षा कर दो

और फ़िर से एक बार इस धरती के ज़ख्मो को भर दो

बरसो, खूब बरसो, तब तक बरसो

जब तक बारिश की एक बूँद भी तुम्हारे भीतर शेष है

रुको मत, डरो मत, अनन्त सागरों का जल तुम्हे भरने को तत्पर है

बरसो, खूब बरसो और प्रेम की गंगाओं को लबालब भर दो

क्योंकि, आज हमने फ़िर से एक कमाल का करिश्मा देखा।


Warning: Illegal string offset 'ID' in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 117

Notice: Uninitialized string offset: 0 in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 117

Warning: Illegal string offset 'ID' in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 118

Notice: Uninitialized string offset: 0 in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 118

Warning: Illegal string offset 'ID' in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 119

Notice: Uninitialized string offset: 0 in /home/customer/www/literaryforum.org/public_html/wp-content/themes/arte-child/single-article.php on line 119

Anthology

How do you make green?

Poetry by Bettina

In school they threw her out of painting class. She was useless at colours, she says. Her face is wrinkled now. Her frame has shrunk to the size of a...
read more

Sky-Bird

Poetry by Pariksith Singh

To fly Is to be The infinite space To rise Into openness The vast opens as I My love of transparence Fills me now To flesh and marrow The journey...
read more

On The Edge

Poetry by Arwa Qutbuddin

Holy intoxication makes my spirit drunk I sip from the lake that holds a sacred moonbeam inside its black waters This beauty leaves me in rapture of the starless night...
read more

Previous Next
Close
Test Caption
Test Description goes like this